Science vvi Subjective Question 2023 [ प्रकाश का परावर्तन और अपवर्तन ] Class 10th Science vvi Question 2023

0

Science vvi Subjective Question 2023 , Hello Students, आप भी Bihar Board से मैट्रिक (10वीं) कि परीक्षा 2023 में देने वाले है। तो इस पोस्ट में आप सभी को विज्ञान का [ प्रकाश का परावर्तन और अपवर्तन ] का महत्त्वपूर्ण लघु और दीर्घ (Subjective Question Answer 2023) उत्तरीय प्रश्न दिया गया। जो आप सभी के परीक्षा के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण हैं। तो अगर आप इन सभी प्रश्न को याद कर लेंगे तो Bihar Board Matric Science की परीक्षा में किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होगा। यहां से आपके परीक्षा में 100% प्रश्न पुछा जाता हैं तो आप इन प्रश्न को जरुर याद कर ले और अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

Science vvi Subjective Question 2023

Science vvi Subjective Question 2023 :- [ प्रकाश का परावर्तन और अपवर्तन ] Bihar Board Matric Science vvi Subjective Question 2023, प्रकाश के परावर्तन तथा अपवर्तन, Prakash ka apvartan ka Subjective Question 2023, Bihar Board Class 10th vvi Question 2023, 
[ प्रकाश का परावर्तन और अपवर्तन ]

1. क्रांतिक कोण क्या है?

उत्तर:- जब प्रकाश की किरण सघन माध्यम से विरल माध्यम में प्रवेश करती है, तो वह अभिलम्ब से विचलित हो जाती है अर्थात विरल माध्यम में बनने वाला अपवर्तन कोण (∠r) सघन माध्यम में बनने वाले आपतन कोण (∠i) से अधिक होता है। . यदि विरल माध्यम में अपवर्तित कोण समकोण बन जाता है, तो सघन माध्यम में आपतन कोण को क्रांतिक कोण कहा जाता है।

2. पेरिस्कोप किसे कहते हैं और इसके उपयोग क्या हैं?

उत्तर: पेरिस्कोप एक ऐसा यंत्र है जिसके द्वारा हम अपने अंदर छिपी वस्तुओं को देख सकते हैं। खाइयों में छिपे सैनिक मैदानों और पहाड़ों को देख सकते हैं और पनडुब्बियों में बैठे सैनिक समुद्र के स्तर का निरीक्षण कर सकते हैं। कोहरे वाले दिन में भी इन्फ्रारेड फोटोग्राफी की जा सकती है। पेरिस्कोप को समतल दर्पणों की सहायता से बनाया जा सकता है जो प्रकाश के परावर्तन के सिद्धांत पर कार्य करते हैं। प्रिज्म का उपयोग उच्च गुणवत्ता वाले पेरिस्कोप में किया जाता है।

3. समतल दर्पण में बनने वाले प्रतिबिम्ब की विशेषताएँ लिखिए।

उत्तर: कोई वस्तु समतल दर्पण के सामने जितनी दूर होती है, उतनी ही उसके पीछे वस्तु बनती है। किसी वस्तु की संपूर्ण वस्तु को समतल दर्पण में देखने के लिए दर्पण का आकार उसका आधा होना चाहिए।

4. अवतल दर्पणों के उपयोग लिखिए।

उत्तर: अवतल दर्पण के उपयोग निम्नलिखित हैं।
(i) अधिक ऊर्जा के लिए बड़े आकार के अवतल दर्पणों का उपयोग किया जाता है।
(ii) इनका उपयोग वाहन की हेडलाइट, लैप, सर्चलाइट, टॉर्च आदि बनाने में किया जाता है।
(iii) इनका उपयोग शेविंग मिरर बनाने में किया जाता है।
(iv) दंत चिकित्सक और विशेषज्ञ रोगी की जांच के लिए उनका उपयोग करते हैं।

5. प्रकाश का अपवर्तन क्या होता है? इसके नियम लिखिए।

उत्तर प्रकाश के अपवर्तन के दो नियम हैं-
(i) आपतित किरण, अपवर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब सभी एक ही तल में होते हैं।
(ii) जब एक ही रंग की प्रकाश की किरण किन्हीं दो माध्यमों के सीमा तल पर तिरछी आपतित होती है, तो आपतन कोण (i) की ज्या और अपवर्तन कोण की ज्या (r) का अनुपात होता है लगातार। . इस नियम को स्नेल का नियम भी कहते हैं।

6. समतल दर्पण द्वारा उत्पन्न आवर्धन +1 होता है, इसका क्या अर्थ है?

उत्तर :- समतल दर्पण द्वारा उत्पन्न आवर्धन +1 होने का अर्थ है कि जिस वस्तु का प्रतिबिम्ब समतल दर्पण द्वारा बन रहा है उसका आकार दर्पण (तल) द्वारा बने प्रतिबिम्ब के आकार के बराबर है। धनात्मक चिन्ह दर्शाता है कि प्रतिबिम्ब सीधा और आभासी है।

7. उत्तल फीते के दो उपयोग बताइए।

उत्तर उत्तल लेंस के दो उपयोग इस प्रकार हैं-

(i) आँख से दूर दृष्टि दोष को दूर करने में

(ii) प्रिंट के छोटे अक्षरों को पढ़ने में होता है।

8. प्रकाश के परावर्तन को क्या कहते हैं? इसके नियम लिखिए।

उत्तर: जब प्रकाश पॉलिश या चमकदार सतह पर पड़ता है, तो यह एक निश्चित दिशा में फैलता है। एक पॉलिश सतह से एक निश्चित तरीके से प्रकाश की दिशा बदलने की घटना को परावर्तन कहा जाता है।
प्रकाश के परावर्तन के दो नियम हैं –
(i) आपतित किरण दर्पण के आपतन बिंदु पर अभिलम्ब होती है और परावर्तित किरण एक ही तल में होती है।
(ii) परावर्तन कोण हमेशा आपतन कोण के बराबर होता है।

9. एक उत्तल लेंस, एक अवतल लेंस और एक गोलाकार कांच दिया गया है। प्लेट की सतहों को छुए बिना उनकी पहचान कैसे करें?

उत्तर: यदि उत्तल लेंस, अवतल लेंस और काँच की प्लेट को मुद्रित अक्षरों के ऊपर उठाने से अक्षरों का आकार बढ़ता हुआ प्रतीत होता है, तो यह उत्तल लेंस होगा और यदि अक्षरों का आकार छोटा दिखाई देता है तो यह एक होगा अवतल लेंस। और अगर अक्षरों का आकार समान रहता है, तो यह कांच की एक गोलाकार प्लेट होगी।

10. हम वाहनों में उत्तल दर्पण को पश्च-दृश्य दर्पण के रूप में क्यों पसंद करते हैं?

उत्तर उत्तल दर्पण को पश्च-दृश्य दर्पण के रूप में वरीयता दी जाती है। क्योंकि वे हमेशा एक सीधी छवि बनाते हैं। इनके दर्शन का क्षेत्र भी बहुत विस्तृत है। क्योंकि ये बाहर की ओर मुड़े होते हैं।

11. उत्तल लेंस को अभिसारी लेंस क्यों कहा जाता है?

उत्तर: उत्तल लेंस के माध्यम से आपतित समानांतर किरणें अपवर्तन के परिणामस्वरूप होती हैं। एक बिंदु पर मिलते हैं। अर्थात् उत्तल लेंस प्रकाश की समान्तर किरणों को अभिसरण करता है। करता है। इसलिए, इस गुण के कारण उत्तल लेंस को अभिसारी लेंस कहा जाता है।

12. उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण में अंतर लिखिए।

अवतल दर्पण   उत्तल दर्पण
1. इसमें परावर्तन करने वाला चमकीला तल अंदर धंसा होता है। 1. इसमें परावर्तन करने वाला चमकीला तल बाहर को उभरा होता है।
2. इसमें वास्तविक और आभासी दोनों प्रकार के प्रतिबिंब बनते हैं। 2. इसमें आभासी प्रतिबिंब बनता है।
3. इसमें प्रतिबिंब उल्टा और सीधा दोनों बनते हैं। 3. इसमें सीधा प्रतिबिंब बनता है
4. इसमें प्रतिबिंब बड़ा, छोटा तथा वस्तु के आकार का, तीनों प्रकार का बनता है ? 4. इसमें प्रतिबिंब छोटा बनता है

13. उत्तल लेंस और अवतल लेंस में अंतर स्पष्ट कीजिए। 

उत्तल लेंस अवतल लेंस
1. बीच में से मोटा तथा किनारों से पतला होता है। 1. बीच में पतला तथा किनारों से मोटा होता है।
2 अक्षर बड़े आकार के दिखाई देते हैं। 2 अक्षर छोटे आकार के दिखाई देते हैं
3. प्रकाश की किरणों को एक बिंदु पर केंद्रित करता है। 3. प्रकाश-किरण पुंज को बिखेर देता है
4. वस्तु का प्रतिबिंब वास्तविक, आभासी तथा उल्टा बनता है। 4. वस्तु का प्रतिबिंब आभासी तथा सीधा बनता है।
5. लेंस को बायीं तरफ हिलाएँ तो प्रतिबिंब दायीं तरफ गति करता है। 5. लेंस को बायीं तरफ हिलाएँ तो प्रतिबिंब भी बायीं तरफ हटेगा।
6. इसकी फोकस दूरी धनात्मक होती होती है। 6. इसकी फोकस दूरी ऋणात्मक होती हैं |

14. वास्तविक और आभासी प्रतिबिंब में क्या अंतर है?

वास्तविक प्रतिबिंब आभासी प्रतिबिंब
1. वास्तविक प्रतिबिंब को पर्दे पर प्राप्त किया जा सकता है | 1.आभासी प्रतिबिंब को पर्दे पर प्राप्त नहीं किया जा सकता है |
2.वास्तविक प्रतिबिंब सदैव उल्टे होते हैं | 2. आभासी प्रतिबिंब सदैव सीधे होते हैं |
3. वास्तविक प्रतिबिंब दर्पण के आगे बनता है | 3.आभासी प्रतिबिंब दर्पण के पीछे बनता है |

15. प्रकाश के परावर्तन को क्या कहते हैं? इसके नियम लिखिए !

उत्तर – प्रकाश की किरणों के किसी वस्तु से टकराने और वापस लौटने की घटना को प्रकाश का प्रसार कहते हैं? प्रकाश के परावर्तन के दो नियम हैं।

1. आपतित किरण, परावर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब एक ही तल में होते हैं।

2. आपतन कोण परावर्तन कोण के बराबर होता है।

आपतित किरण:- दर्पण से आने वाली और उससे टकराने वाली किरण आपतित किरण कहलाती है।
परावर्तित किरण: दर्पण से टकराकर लौटती प्रकाश की किरण को परावर्तित किरण कहते हैं।
अभिलम्ब: उस बिंदु पर खींचा गया लम्ब जिस पर आपतित किरण और परावर्तित किरण मिलती है अभिलम्ब कहलाता है।
आपतन कोण: आपतित किरण और अभिलंब के बीच बनने वाले कोण को आपतन कोण कहते हैं।
परावर्तन कोण: परावर्तित किरण और अभिलंब के बीच बनने वाले कोण को परावर्तन कोण कहा जाता है।

16. प्रकाश के प्रकीर्णन से आप क्या समझते हैं?

जब प्रकाश किसी ऐसे माध्यम से गुजरता है जिसमें धूल और अन्य पदार्थ के बहुत महीन कण होते हैं, तो यह सभी दिशाओं में प्रकाश का प्रसार करता है, इसे प्रकाश का प्रकीर्णन कहा जाता है, सूर्य के प्रकाश के प्रकीर्णन के कारण आकाश का रंग। ऐसा होता है। नीला दिखाई देता है

17. प्रकाश के अपवर्तन के नियम लिखिए।

उत्तर: प्रकाश के एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाने पर उसकी दिशा में परिवर्तन की घटना को प्रकाश का अपवर्तन कहते हैं।
अपवर्तन के नियम –
(i) आपतित किरण, अपवर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब सभी एक ही तल में होते हैं।

(ii) प्रकाश के एक विशेष रंग के लिए, आपतन कोण की ज्या और अपवर्तन कोण की ज्या के बीच एक निश्चित अनुपात होता है, जिसे अपवर्तनांक कहते हैं। इस नियम को स्नेल का नियम भी कहते हैं।

18. अपवर्तनांक को परिभाषित कीजिए। हीरे का अपवर्तनांक 2.42 होता है। इस कथन का क्या अभिप्राय है ?

उत्तर: अपवर्तनांक – किसी माध्यम में अपवर्तनांक (u) की परिभाषा इस माध्यम में निर्वात में प्रकाश की गति (c) से प्रकाश की गति (c) के अनुपात के रूप में दी गई है।

हीरे में प्रकाश की गति हवा में प्रकाश की गति से कम होगी। इसलिए, हवा में यात्रा करने वाली प्रकाश की किरण हीरे में प्रवेश करने पर अभिलंब की ओर झुक जाएगी।

19. सामान्य आंखें 25 सेमी से अधिक निकट रखी वस्तुओं को स्पष्ट रूप से क्यों नहीं देख पाती हैं?

उत्तर: आँख 25 सेमी की दूरी पर रखी वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देखती है, लेकिन 25 सेमी से कम दूरी पर रखी वस्तुओं का प्रतिबिम्ब रेटिना पर स्पष्ट रूप से नहीं बनता है। इसलिए मनुष्य वस्तुओं को स्पष्ट रूप से नहीं देख सकता है।

20. समतल दर्पण में बनने वाले प्रतिबिम्ब का आकार और प्रकृति क्या होती है?

उत्तर: समतल दर्पण से बनने वाला प्रतिबिम्ब –

(i) प्रतिबिम्ब का आकार वस्तु के समान ही होता है।
(ii) प्रतिबिंब दर्पण के पीछे उतनी ही दूरी पर बनता है जितनी दूरी पर वस्तु समतल दर्पण के सामने होती है।
(iii) एक आभासी प्रतिबिम्ब बनता है।

22. गोलीय दर्पण द्वारा पेपर क्लिप को सूर्य के प्रकाश में कैसे जलाया जा सकता है?

उत्तर: गोलाकार अवतल दर्पण का परावर्तक पृष्ठ सूर्य से आने वाली किरणों के सामने रखा जाता है। सूर्य से आने वाली समानांतर किरणें दर्पण से परावर्तित होती हैं और फोकस पर अभिसरित होती हैं। यदि कागज की कतरनों को अवतल दर्पण के फोकस पर रखा जाए तो वह जल जाता है। क्योंकि समानांतर किरणें एक बिंदु पर अभिसरण करती हैं और बहुत अधिक ऊष्मा उत्पन्न करती हैं। जब एक पेपर क्लिप को दर्पण के फोकस पर रखा जाता है, तो वह जल जाती है।

23. प्रकाश क्या है?

उत्तर: दृष्टि के भौतिक अनुभव को प्रकाश कहते हैं, जो वस्तुओं को दृश्यमान बनाता है। कोई वस्तु उस पर पड़ने वाले प्रकाश को परावर्तित कर देती है और वह परावर्तित प्रकाश हमारी आँखों को प्राप्त होता है और फिर हमें वस्तुओं को देखने में सक्षम बनाता है।

24. प्रकाशिक घनत्व क्या है?

उत्तर: प्रकाशिक घनत्व का एक निश्चित संबंध होता है। यह द्रव्यमान घनत्व के समान नहीं है। जिस माध्यम का प्रकाशिक घनत्व सबसे अधिक होता है वह सघन माध्यम होता है, अन्यथा यह एक दुर्लभ माध्यम होता। जब प्रकाश की किरण विरल माध्यम से सघन माध्यम में प्रवेश करती है तो अभिलम्ब की ओर झुक जाती है और सघन माध्यम से प्रकाश की किरण जब विरल माध्यम में अपवर्तित हो जाती है तो अभिलम्ब से दूर चली जाती है।

25. आभासी प्रतिबिंब क्या है?

उत्तर स्रोत से आने वाला प्रकाश परावर्तन या अपवर्तन के बाद किसी बिंदु पर नहीं मिलता है, लेकिन जब परावर्तित या अपवर्तित किरणें एक बिंदु पर मिलती हैं, तो एक आभासी छवि बनती है। यह छवि स्क्रीन पर आने के लिए हमेशा सीधी और असंभव होती है।

26. वास्तविक प्रतिबिम्ब क्या है?

उत्तर: यदि किसी स्रोत से आने वाला प्रकाश परावर्तन या अपवर्तन के बाद किसी बिंदु पर मिलता है, तो वास्तविक प्रतिबिम्ब बनता है। वास्तविक छवि को हमेशा उल्टा और स्क्रीन पर आसानी से लिया जा सकता है। हमारी आंख रेटिना पर एक वास्तविक छवि बनाती है।

27. गोलीय दर्पणों द्वारा परावर्तन के लिए नई कार्तीय चिन्ह परिपाटी।

उत्तर

(i) वस्तु को हमेशा दर्पण के बाईं ओर रखा जाता है। इसका अर्थ है कि दर्पण पर वस्तु से प्रकाश बाईं ओर से आपतित होता है।

(ii) मुख्य अक्ष के समानांतर सभी दूरियाँ दर्पण के ध्रुव से मापी जाती हैं।

(iii) मूल बिंदु के दाईं ओर (+X-अक्ष के साथ) मापी गई सभी दूरियां धनात्मक मानी जाती हैं, जबकि मूल बिंदु के बाईं ओर मापी गई सभी दूरियां (-X-अक्ष के अनुदिश) ऋणात्मक मानी जाती हैं।

28. अवतल दर्पण, उत्तल दर्पण और समतल दर्पण को स्पर्श करके और बिना छुए कैसे पहचानें?

उत्तर अवतल दर्पण को छूने पर पता चलता है कि उसका परावर्तक पृष्ठ समतल है। उत्तल दर्पण का परावर्तक पृष्ठ ऊपर उठा हुआ होता है। समतल दर्पण का परावर्तक पृष्ठ समतल होता है। एक वस्तु पिन को बारी-बारी से तीनों दर्पणों के फोकस के भीतर रखा जाता है। जिस दर्पण में बिंब पिन का प्रतिबिम्ब आभासी, सीधा और बड़ा दिखाई देता है वह अवतल दर्पण होता है। जिस दर्पण में वस्तु का प्रतिबिम्ब आभासी, सीधा, छोटा प्रतीत होता है, वह उत्तल दर्पण होता है। जिस दर्पण में वस्तु का प्रतिबिम्ब आभासी, सीधा और वस्तु के आकार के बराबर दिखाई देता है वह समतल दर्पण होता है।

29. लेंस कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर: मुख्य रूप से दो प्रकार के लेंस होते हैं- उत्तल लेंस और अवतल लेंस। उत्तल लेंस में वास्तविक और आभासी दोनों प्रकार के प्रतिबिम्ब बनते हैं, लेकिन अवतल लेंस में केवल आभासी प्रतिबिम्ब बनते हैं

32. लेंस में कितने प्रमुख फोकस होते हैं?

उत्तर: जैसा कि हम जानते हैं कि प्रकाश लेंस के दोनों ओर से होकर गुजर सकता है। यही कारण है कि प्रत्येक लेंस में दो मुख्य फोकस होते हैं। लेंस के दोनों ओर फोकस होता है।

33. कौन सा लेंस वास्तविक और आभासी दोनों प्रतिबिम्ब बनाता है?

उत्तर: उत्तल लेंस वास्तविक और आभासी दो प्रकार के प्रतिबिम्ब बनाता है। जब वस्तु फोकस से बाहर होती है तो लेंस एक वास्तविक छवि बनाता है और जब वस्तु फोकस में होती है तो एक आभासी छवि बनाता है।

34. बिना स्पर्श के उत्तल लेंस, अवतल लेंस और गोलाकार कांच की प्लेट की पहचान कैसे करें?

उत्तर दोनों प्रकार के लेंसों और कांच की प्लेट को बारी-बारी से हाथों से पकड़कर वे पुस्तक के मुद्रित पृष्ठ के पास लाते हैं और उनमें छपे अक्षरों को देखते हैं –
(i) यदि पुस्तक के मुद्रित अक्षर अपने वास्तविक आकार से बड़े दिखाई देते हैं, तो यह एक उत्तल लेंस है।
(ii) यदि पुस्तक के मुद्रित अक्षर अपने मूल आकार के समान प्रतीत होते हैं, तो यह एक कांच की प्लेट है।
(iii) यदि पुस्तक के मुद्रित अक्षर अपने वास्तविक आकार से छोटे दिखाई देते हैं, तो यह एक अवतल लेंस है।

35. सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सूर्य लाल क्यों दिखाई देता है?

क्षितिज के पास, अधिकांश नीले और छोटे तरंग दैर्ध्य प्रकाश कणों द्वारा बिखर जाते हैं। तो रोशनी हमारी आँखों तक पहुँचती है
लंबी तरंग दैर्ध्य। इसके कारण सूर्योदय या सूर्यास्त के समय सूर्य रक्तपिपासु प्रतीत होता है।

36. अवतल लेंस को अपसारी लेंस कहा जाता है, क्यों?

उत्तर: एक अवतल लेंस के माध्यम से समानांतर प्रकाश की किरणें घटना के बाद अपवर्तित हो जाती हैं और आपस में फैल जाती हैं। अर्थात् अवतल लेंस प्रकाश की समानांतर किरणों को अपसारी करता है। इस गुण के कारण अवतल लेंस को अपसारी लेंस कहा जाता है।

37. किरण क्या है?
उत्तर: प्रकाश के बिंदु पथ को किरण कहते हैं। किरणें तीन प्रकार की होती हैं – अभिसारी किरण, अपसारी किरण और समानांतर किरण। एक परवलयिक दर्पण एक अभिसरण किरण उत्पन्न करता है। उत्तल दर्पण एक अपसारी किरण उत्पन्न करता है और एक समांतर पुंज समतल दर्पण द्वारा निर्मित होता है।

39. विवर्तन क्या है?

उत्तर यदि प्रकाश के मार्ग में रखी गई अपारदर्शी वस्तु बहुत छोटी हो तो प्रकाश एक सीधी रेखा में गति करने के बजाय अपने किनारों पर मुड़ने की प्रवृत्ति दिखाता है, इस प्रभाव को प्रकाश का विवर्तन कहते हैं।

40. नए कार्टेशियन साइन कन्वेंशन के अनुसार गोलाकार लेंस में आवर्धन कैसे बदलता है?

उत्तर: उत्तल लेंस के मामले में, छवि के आभासी होने पर आवर्धन धनात्मक होता है और प्रतिबिंब के वास्तविक होने पर ऋणात्मक होता है। अवतल लेंस के मामले में, आवर्धन हमेशा सकारात्मक होता है क्योंकि अवतल लेंस हमेशा एक आभासी छवि बनाता है।

41. मुख्य फोकस और फोकस में क्या अंतर है?

उत्तर: मुख्य फोकस दर्पण के मुख्य अक्ष पर पाया जाता है। लेकिन प्रकाश की समानांतर किरणें दर्पण से परावर्तित होने के बाद एक बिंदु पर केंद्रित होती हैं। इस बिंदु को फोकस कहा जाता है। यह आवश्यक नहीं है कि फोकस दर्पण के मुख्य अक्ष पर हो।

42. तारे टिमटिमाते हैं, लेकिन ग्रह टिमटिमाते नहीं हैं। क्यों ?

उत्तर: ग्रह सितारों की तुलना में हमारे बहुत करीब हैं। इसलिए, वे पर्याप्त प्रकाश प्रदान करते हैं कि वायुमंडलीय परतों के घनत्व की अस्थिरता के कारण, प्राप्त किरणों की संख्या में अपेक्षाकृत कम कमी होती है और वे लगभग स्थायी रूप से चमकती दिखाई देती हैं। तारों से आने वाली प्रकाश किरणें वातावरण के विभिन्न घनत्व की परतों से गुजरते समय किरणों के मार्ग में विचरण करती हैं और तारे का प्रकाश अलग-अलग क्षणों में अपवर्तित होकर टिमटिमाता हुआ प्रतीत होता है।

S.N रसायन विज्ञान | Chemistry
1 रासायनिक अभिक्रियाएँ और समीकरणnew-gif-image-14[1]
2 अम्ल , क्षार एवं लवणnew-gif-image-14[1]
3 धातु एवं अधातुnew-gif-image-14[1]
4 कार्बन एवं उसके यौगिकnew-gif-image-14[1]
5 तत्वों का आवर्त वर्गीकरणnew-gif-image-14[1]
S.N जीवविज्ञान | Biology
6 जैव प्रक्रमnew-gif-image-14[1]
7 नियंत्रण एवं समन्वयnew-gif-image-14[1]
8 जीव जनन कैसे करते हैnew-gif-image-14[1]
9 आनुवांशिकता एवं जैव विकासnew-gif-image-14[1]
S.N भौतिकी | Physics
10 प्रकाश – परावर्तन तथा अपवर्तनnew-gif-image-14[1]
11 मानव- नेत्र एवं रंगबिरंगा संसारnew-gif-image-14[1]
12 विद्युतnew-gif-image-14[1]
13 विद्युत धारा के चुम्बकीय प्रभावnew-gif-image-14[1]
14 उर्जा के स्रोतnew-gif-image-14[1]
S.N पर्यावरण विज्ञान | Environment
15 हमारा पर्यावरणnew-gif-image-14[1]
16 प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधनnew-gif-image-14[1]
S.N DLS Education Mantu Sir
1 Free PDF + Notes + Online Test new-gif-image-14[1]
2 DLS Education Book PDF Download new-gif-image-14[1]
3 vvi Question PDF + Notes + Live Test new-gif-image-14[1]
4 Telegram Group new-gif-image-14[1]
5 Facebook Page Link new-gif-image-14[1]

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page