Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023 | बिहार बोर्ड मैट्रिक संस्कृत मॉडल पेपर 2023 | 10th Sanskrit Model Set 2023

0

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023,  Sanskrit 10th Model Paper Download 2023, Matric Sanskrit Model Paper 2023| BSEB 10th Sanskrit Model Paper 2023 Download PDF | DLS Education Mantu Sir, Bihar Board 10th Sanskrit Model Paper 2023,  Bihar Board 10th Sanskrit Model Paper 2023, DLS Education, Mantu Sir,

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

SECONDARY SCHOOL EXAMINATION
2023 – (ANNUAL)
Model Paper – 1
द्वितीय भारतीय भाषा – संस्कृत (SANSKRIT – SIL)

Time : 03Hrs. 15 Minutes
समय : 03 घंटे 15 मिनट
Total No of Question :- 60+5= 65
कुल प्रश्नों की संख्या :- 60+5= 65

परीक्षार्थियों के लिए निर्देश :-

1. परीक्षार्थी यथासंभव अपने शब्दों में ही उत्तर दें  
2. दाहिनी ओर हाशिये पर दिये हुए अंक पूर्णांक निर्दिष्ट करते हैं। 
3. उत्तर देते समय परीक्षार्थी यथासंभव शब्द सीमा का ध्यान रखें ]
4. इस प्रश्न पत्र को पढ़ने के लिए परीक्षार्थियों को 15 मिनट का अतिरिक्त समय दिया गया है। ]
5. यह प्रश्नपत्र दो खण्डों में है – खण्ड-अ एवं खण्ड-ब। ]
6. खण्ड अ में 60 वस्तुनिष्ठ प्रश्न हैं। इनमें से किन्हीं 50 प्रश्नों का उत्तर देना है। यदि कोई परीक्षार्थी 50 से अधिक प्रश्नों का उत्तर देते हैं तो प्रथम 50 प्रश्नों का ही मूल्यांकन किया जाएगा। प्रत्येक के लिए 1 अंक निर्धारित है। इनका उत्तर उपलब्ध कराये गये OMR उत्तर-पत्रक में दिये गये सही वृत्त को काले/नीले बॉल पेन से भरें। किसी भी प्रकार के हाइटनर/तरल पदार्थ/ब्लेड/नाखून आदि का उत्तर पुस्तिका में प्रयोग करना मना है, अन्यथा परीक्षा परिणाम अमान्य होगा। ]
7. खण्ड–ब में कुल 05 विषयनिष्ठ प्रश्न हैं। प्रत्येक प्रश्न के सामने अंक निर्धारित हैं। ]
8. किसी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण का प्रयोग पूर्णतया वर्जित है। ]

खण्ड-अ (वस्तुनिष्ठ प्रश्न)
प्रश्न संख्या 1 से 60 तक के प्रत्येक प्रश्न के साथ चार विकल्प दिए गए हैं, जिनमें से कोई एक सही है। इन 60 प्रश्नों में से किन्हीं 50 प्रश्नों द्वारा चुने गये सही विकल्प को OMR उत्तर–पत्रक पर चिह्नित करें। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

1. ‘मङ्गलम्’ कहाँ से संकलित है ?
(A) वेद से
(B) पुराण से
(C) उपनिषद् से
(D) वेदाङ्ग से

2. ‘मङ्गलम्’ पाठ में कितने मंत्र हैं ?
(A) चार
(B) पाँच
(C) सात
(D) आठ

3. अयोध्याकांड किस ग्रंथ का भाग है ?
(A) रामायण
(B) महाभारत
(C) रघुवंश
(D) भगवद्गीता

4. ‘रघुवंश’ काव्य की रचना किसने की है ?
(A) महात्मा विदुर
(B) महर्षि वाल्मीकि
(C) महर्षि वेदव्यास
(D) कालिदास

5. कः स्नातः कुशहस्तः सरस्तीरे ब्रूते ?
(A) व्याघ्रः
(B) भल्लूकः
(C) वानरः
(D) मनुष्यः

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

6. ‘पथिन्’ शब्द का षष्ठी बहुवचन में रूप लिखें ।
(A) पथिनाम्
(B) पथाम्
(C) पथ्याम्
(D) पथि

7. ‘पयस्’ शब्द का षष्ठी बहुवचन में रूप क्या होता है ?
(A) पयसाम्
(B) पयसानाम्
(C) पयसनाम्
(D) पयोसाम्

8.’अहो अमीषां किमकारि …… स्पृहा हि नः।’ यह पद्य किस पुराण से संकलित है?
(A) विष्णु पुराण
(B) नारद पुराण
(C) मार्कण्डेय पुराण
(D) भागवत पुराण

9. पथिकः केन व्यापादितः खादितश्च ?
(A) व्याघ्रण
(B) सिंहेन
(C) मनुष्येण
(D) सर्पण

10. ‘पथिक’ को किसने मारा ?
(A) व्याघ्र ने
(B) सिंह ने
(C) मनुष्य ने
(D) सर्प ने

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

11. पथिक कहाँ फँस गया ?
(A) नदी में
(B) तालाब में
(C) कीचड़ में
(D) कूप में

12.नानृतम् । रिक्त स्थानानि पूरयत ।
(A) असत्यमेव
(B) असत्यमेव जयते
(C) सत्यमेव जयते
(D) जयते

13. “पाटलिपुत्रवैभवम्’ पाठे कस्य नगरस्य वर्णनम् अस्ति ?
(A) गयायाः
(B) तिलौथूनगरस्य
(C) आरायाः
(D) पाटलिपुत्रस्य

14. ‘घी’ शब्द का षष्ठी बहुवचन में क्या रूप होता है ?
(A) घीया
(B) विवेक
(C) घियः
(D) घीयानाम्

15. ‘दाण्’ धातु का रूप विधिलिङ् उत्तम पुरुष एकवचन में क्या होता है ?
(A) यच्छेयम्
(B) अयच्छम्
(C) यच्छे:
(D) अयच्छाम्

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

16. क्रिया किसके बिना भार स्वरूप हो जाता है ?
(A) शास्त्र
(B) घीयः
(C) ज्ञान
(D) पुस्तक

17. ‘कर्णभारं नाटकम्’ कस्य रचना अस्ति ?
(A) भासस्य
(B) कालिदासस्य
(C) बाणभट्टस्य
(D) माघस्य

18. ‘कर्णस्य दानवीरता पाठ किस ग्रंथ से संकलित है ?
(A) कर्णभार से
(B) वासवदत्ता से
(C) प्रतिमानाटक से
(D) मृच्छकटिक से

19. महाभारत में किस लेखिका का उल्लेख मिलता है ?
(A) गार्गी का
(B) मैत्रेयी का
(C) सुलभा का
(D) यमी का

20. ‘गच्छ’ किस धातु का रूप है ?
(A) गम्
(B) गच्छ
(C) गद्
(D) गुप्

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

21. बुद्धकाले पाटलिपुत्रस्य नगरस्य नाम किम् ?
(A) पाटलग्रामः
(B) पटना
(C) पाटलिग्रामः
(D) पुष्पपुरम्

22. ‘पाटलिपुत्रवैभवम्’ पाठ में किस नगर का वर्णन है ?
(A) गया
(B) नवादा
(C) आरा
(D) पाटलिपुत्र

23. मेगास्थनीज पटना किसके समय में आया था ?
(A) अशोक के समय में
(B) मुगलवंश काल में
(C) चन्द्रगुप्त मौर्य के समय में
(D) अंग्रेजों के समय में

24. सूर्यपुत्र कौन था ?
(A) भीम
(B) अर्जुन
(C) कर्ण
(D) युधिष्ठिर

25. “विश्वशांति” पाठे कस्य चित्रणं मिलति ?
(A) अशांतिः वातावरणस्य
(B) देशभक्तिः वातावरणस्य
(C) वैज्ञानिकी वातावरणस्य
(D) शांतिः वातावरणस्य
Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

26. “विश्वशांति’ पाठ में किस वातावरण का चित्रण किया गया है ?
(A) अशांति
(B) शांति
(C) देशभक्ति
(D) वैज्ञानिक

27. पाटल पुष्पों की पुत्तलिका रचना के आधार पर पटना का कौन-सा नाम है ?
(A) पुष्पपुर
(B) कुसुमपुर
(C) पाटलिपुत्र
(D) पटना

28. ‘जिघ्रति’ में मूलधातु क्या है ?
(A) जिघ्र
(B) घ्रा
(C) इष्
(D) शी

29. ‘बभूयते’ का मूल धातु क्या है ?
(A) ब्रू
(B) भ्रू
(C) भू
(D) वद्

30. “निर्गुणः’ में कौन सी संधि है ?
(A) स्वर संधि
(B) व्यंजन संधि
(C) विसर्ग संधि
(D) पूर्वरूप संधि

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

31. दुःख का विषय क्या है ?
(A) अशांति
(B) शांति
(C) सार्वभौमिक अशांति
(D) सार्वभौमिक शांति

32. भारतवर्षे केषां महती परम्परा श्रूयते ?
(A) पुस्तकानाम्
(B) ग्रन्थानाम्
(C) शास्त्राणाम्
(D) स्वतंत्रग्रन्थकाराणाम्

33. ‘गरीबों और अनाथों’ को प्रतिदिन कौन भोजन कराते थे ?
(A) बुद्धिवीर
(B) कर्मवीर
(C) धर्मवीर
(D) वीरेश्वर

34. मनुष्य को कौन नष्ट कर देता है ?
(A) धन
(B) धर्म
(C) आलस्य
(D) इनमें से कोई नहीं

35. अलसशाला में आग कब लगाई गई ?
(A) रात में
(B) दिन में
(C) जब सब सो रहे थे
(D) जब सब भोजन कर रहे थे
Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

39. ‘अत्रैव’ का संधि विच्छेद क्या होगा ?
(A) अत्र + व
(B) अत्र + एव
(C) अत्र + ऐव
(D) अत्रे + ऐव

40. ‘विद्या + एका’ की संधि होगी ।
(A) विद्येका
(B) विद्यैका
(C) विद्याएका
(D) विद्योका

41. ‘एक एक प्रति’ का समस्त पद कौन है ?
(A) एकैकम्
(B) अन्वेकम
(C) प्रत्येकम्
(D) अतिरेकम्

42. ‘वीतशोकः’ का कौन विग्रह होगा ?
(A) विगतः शोकः यस्य
(B) विगतस्य शोकः यः
(C) विगते शोके यस्मिन्
(D) विगत एव शोकः

43. याज्ञवल्क्य ने आत्मतत्व की शिक्षा किसको दी थी ?
(A) मैत्रेयी को
(B) गार्गी को
(C) सुलभा को
(D) रामभद्राम्बा को

44. ‘सर्वशुक्ला सरस्वती’ किसने कहा है ?
(A) याज्ञवल्क्य ने
(B) बाणभट्ट ने
(C) जनक ने
(D) दण्डी ने

45. गंगा देवी का समय क्या है ?
(A) चौदहवीं सदी
(B) आठवीं सदी
(C) नवमीं सदी
(D) बारहवीं सदी

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

46. किसकी महिमा सर्वत्र गाई जाती है ?
(A) देव
(B) भारत
(C) विश्व
(D) पाटलिपुत्र

47. ‘पञ्चतन्त्रम्’ किस समास का उदाहरण है ?
(A) द्विगु
(B) द्वन्द्व
(C) तत्पुरुष
(D) कर्मधारय

48. ‘संहारः’ में कौन उपसर्ग है ?
(A) सम्
(B) सह
(C) स
(D) सन्

49. ‘निवेदनम्’ में कौन उपसर्ग है ?
(A) निः
(B) निर
(C) निस
(D) नि

50. किस देश का गुणगान देवता लोग भी करते हैं ?
(A) भारत
(B) पाकिस्तान
(C) श्रीलंका
(D) बंग्लादेश

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

51. ‘भारत महिमा’ पाठ का प्रथम पद या श्लोक कहाँ से संकलित है ?
(A) विष्णु पुराण से
(B) पद्म पुराण से
(C) भागवत पुराण से
(D) वाराह पुराण से

52. भारत महिमा पाठ का द्वितीय श्लोक किस पुराण से संकलित है ?
(A) विष्णु पुराण से
(B) भागवत पुराण से
(C) पद्मपुराण से
(D) वायुपुराण से

53. ‘भारतीय संस्कार’ कितने हैं ?
(A) 24
(B) 20
(C) 18
(D) 16

54. “नि’ उपसर्ग से कौन-सा शब्द बनेगा ?
(A) निर्णयः
(B) निर्माणम्
(C) नियमम
(D) नीरोगः

55. ‘आदितः’ पद में कौन सा प्रत्यय है ?
(A) आदि + ढक्
(B) आदि + ष्यञ्
(C) आदि + इमनिच्
(D) आदि + तसिल्

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

56. ‘गोमान्’ पद में कौन प्रत्यय है ?
(A) गो + मतुप्
(B) गो + ठन्
(C) गो + इनि
(D) गा + वतुप्

57. ‘गोः विकार’ का उपयुक्त शब्द लिखें:
(A) गव्यम्
(B) गवम्
(C) गावम्
(D) गाव्यम्

58. भारतीयों में संस्कार से किसका निर्माण होता है ?
(A) सहिष्णुत्व
(B) व्यक्तित्व
(C) करुणत्व
(D) मानवत्व

59. संस्कारों को कितने भागों में बाँटा गया है ?
(A) 2
(B) 4
(C) 5
(D) 6

60. नीतिश्लोकानां रचनाकारः कः अस्ति ?
(A) महात्मा विदुरः
(B) महात्मा वाल्मीकिः
(C) कालिदासः
(D) महर्षि वेदव्यासः

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

S.N बिहार बोर्ड Class 10th संस्कृत मॉडल पेपर 2023
1. Sanskrit Model Paper – 1
2. Sanskrit Model Paper – 2
3. Sanskrit Model Paper – 3
4. Sanskrit Model Paper – 4
5. Sanskrit Model Paper – 5
6. Official Model Paper 2022
7.  Official Model Paper 2021
8.  Official Model Paper 2020
9. Official Model Paper 2019
10. Official Model Paper 2018
S.N DLS Education Mantu Sir
1 Free PDF + Notes + Online Test
2 DLS Education Book PDF Download
3 vvi Question PDF + Notes + Live Test
4 Telegram Group
5 Facebook Page Link

खण्ड-ब (गैर-वस्तुनिष्ठ प्रश्न)
अपिठत गद्यांश 

1. अधोलिखित गद्यांशों को ध्यानपूर्वक पढ़कर उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर निर्देशानुसार दें-

(अ) संस्कृतसाहित्यं परमसमृद्धं वर्तते । अस्मिन् विलक्षणप्रतिभायाः स्वामिनः अनेके महाकाव्यकाराः नाटककाराः गीतिकाराः च सन्ति । परं तेषु कालिदासः मम सर्वाधिकः प्रियः । असौ नाटककारः अस्ति, महाकाव्यकार: अस्ति, गीतिकारश्च अस्ति । एतानि त्रीणि रूपाणि अन्यस्मिन् कस्मिन्नपि कवौ न लभ्यन्ते । कालिदासस्य त्रीणि नाटकानि सन्ति । ऐषु अभिज्ञानशाकुन्तलं परमप्रसिद्ध नाटकं वर्तते । एतत्-सम्बन्धे विद्वांसः एव कथयन्ति-काव्येषु नाटकं रम्यं तत्र रम्या शकुन्तला। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

       कालिदासस्य द्वे गीतिकाव्ये द्वे एव च महाकाव्ये । मेघदूतं गीतिकाव्यानां शिरोरत्नं मन्यते । मेघदूतसम्बन्धे एतत् कथनम् उद्धरणीयम्-मेघे माघे गतं वयः । रघुवंशं महाकाव्येषु अद्वितीयं स्थानं भजते । रघुवंशविषये निम्नांकित कथनं पठनीयम्-“कः इह रघुकारे न रमते ।” कालिदासः रसप्रसिद्धः कविः अस्ति । शृंगारे असौ अद्वितीयः खलु । वैदर्भीरीतिप्रयोगे अपि असौ अनुपमः । ‘उपमा कालिदासस्य’ इति कथनं तु प्रसिद्धम् एव । प्रकृतेः यादृशं चारु चित्रणं कालिदासेन कृतम् तादृशम् अन्येन केनापि कविना न कृतम् । एभिः गुणैः एव कालिदासः सहृदयानां मनांसि मोहयति । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

I. एकपदेन उत्तरत :
(i) संस्कृतवाङ्मयं कीदृशं वर्तते ?
(ii) मम प्रियः कविः कः ?

II. पूर्णवाक्येन उत्तरत :
(i) कालिदासस्य कति रचनाः सन्ति ?
(ii) कालिदासः कस्मिन् रसे अद्वितीयः आसीत् ?

(III) अस्य अनुच्छेदस्य कृते समुचितं शीर्षकं यच्छत ।

उत्तराणि-
I (i) परमसमृद्धम्
  (ii) कालिदासः

II. (i) कालिदासस्य सप्त रचनाः सन्ति ।
(ii) कालिदासः शृंगार रसे अद्वितीयः आसीत् ।

III. महाकविः कालिदासः मम सर्वप्रियः कविः ।

अथवा

अस्ति अरण्ये कश्चित् शृगालः स्वेच्छाया नगरोपान्ते भ्राम्यन् नीलभाण्डे पतितः । पश्चाद् उत्थातुम् असमर्थः प्रातः आत्मानं मृतवत् संदर्य स्थितः । अथ नीली-भाण्डस्वामिना मृत इति ज्ञात्वा समुत्थाय दूरे नीत्वा अपसारितः । अथ स शृगालः पलायितः । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

I. एक पद में उत्तर दें:
(i) नीलभाण्डे कः पतितः ?
(ii) कः मृतवत् संदर्घ्य स्थितः ?

II. पूर्ण वाक्य में उत्तर दें :
(i) पश्चाद् उत्थातुं कः असमर्थः आसीत् ?
(ii) ‘मृतवत्’ इति ज्ञात्वा केन अपसारितः ?

III. अस्य गद्यांशस्य समुचितं शीर्षकं लिखत ।

उत्तराणि :
I. (i) शृगालः  (ii) शृगालः

II. (i) पश्चाद् उत्थातुं शृगालः असमर्थः आसीत् ।
     (ii) मृतवत्’ इति ज्ञात्वा नील-भाण्डस्वामिना अपसारितः ।

III. रंगा शृगालः ।

(ब) देवेषु कः प्रथमः पूज्यः इति देवसभायां विवादस्य विषयः आसीत् । सर्वे देवाः कोलाहलं कुर्वन्ति–“अहं प्रथमः पूज्यः । अहं प्रथमः पूज्यः।” तत्र निर्णयस्य न कश्चित् मार्गः आसीत् । तदा सर्वे देवाः विष्णु मध्यस्थं मत्वा विष्णुलोकम् अगच्छन् । देवानां निश्चयः आसीत्-” भगवान् विष्णुः यं श्रेष्ठं घोषयिष्यति तस्य एव पूजा अग्रे भविष्यति ।” देवानां विवाद विषयं श्रुत्वा विष्णुः अवदत्-“यः स्वल्पतमेन कालेन वारत्रयं पृथिव्याः प्रदक्षिणां करिष्यति तस्य देवस्य अग्रे पूजा भविष्यति ।” Bihar Board Matric Hindi Model Paper 2023

I. एक पद में उत्तर दें:

(i) देवेषु कः प्रथमः पूज्यः इति कुत्र विवादस्य विषयः आसीत् ?
(ii) सर्वे देवाः कं मध्यस्थं मत्वा विष्णुलोकम् अगच्छन् ?

II. पूर्ण वाक्य में उत्तर दें:
(i) देवानां कः निश्चयः आसीत् ?
(ii) विष्णुः किम् अवदत् ?

उत्तराणि:
I. (i) देवसभायाम् ।
   (ii) विष्णुम् ।

II. (i) देवानां निश्चयः आसीत्–“भगवान् विष्णुः यं श्रेष्ठिं घोषयिष्यति तस्य एव पूजा अग्रे भविष्यति ।”
     (ii) विष्णुः अवदत्-“यः स्वल्पतमेन कालेन वारत्रयं पृथिव्याः प्रदक्षिणां करिष्यति तस्य देवस्य अग्रे पूजा भविष्यति ।”

अथवा

संस्कृत साहित्ये वाचस्पतिः मिश्रः प्रसिद्धो विद्वान् अभवत् । सः बाल्यकाले एव विवाहितोऽभवत् । तस्य पत्न्याः नाम भामती आसीत् । भामती पितृगृहे एवावसत् । दुर्दैवयोगात् मिश्रस्य माता दिवंगता । एतच्छ्रुत्वा भामती पत्युः सेवायाम् पितृगृहात् तत्रागच्छत् । तदा तस्याः पतिः वाचस्पतिः वेदान्तस्य टीकायाः रचनायां व्यस्तः आसीत् । सा सेवापरायणा भामती वर्षाणां विंशतिः पतिम् असेवत् । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

         मिश्रः कदापिताम् नापृच्छत् त्वं काऽसि । किन्तु सा विदुषी शंकासमाधानैः ग्रन्थ प्रणयेन महती सहायताम् अकरोत् । एकदा अर्द्धरात्रौ दीपस्य तैलम् अवसितम् दीपश्चय निर्वाणः अभवत् । तस्मिन्नेव समये टीकापि सम्पूर्णाभवत् । नामकरणमेव अवशिष्टं आसीत् । सहसा आसनात् उत्थाय वाचस्पतिः तामपृच्छत्-काऽसि त्वम् ? भामती उत्तरत्-अहम् आर्यपुत्रस्य भार्या भामती अस्मि । सः ताम् विदुषी स्वभार्यां ज्ञात्वा आनन्देन चन्द्रिकायां प्रकाशे टीकायाः नाम भामती इति अलिखत् । अद्य सर्वे विद्वांसः भामत्या नाम जानन्ति किन्तु मिश्रस्य नाम विरला एव जानन्ति । धन्याः एतादृशाः सेवापरायणाः भारतीय महिलाः । Bihar Board Matric Hindi Model Paper 2023

प्रश्ना:
I. एकेन पदेन उत्तरत:
(i) कः संस्कृत साहित्ये प्रसिद्धो विद्वान् अभवत् ?
(ii) तस्य पत्न्याः नाम किम् आसीत् ?

II. पूर्ण वाक्येन उत्तरत:
(i) वाचस्पतिः मिश्रः कस्मिन् कर्मणि व्यस्तः आसीत् ?
(ii) मिश्रस्य सेवायै को आगता ?

उत्तराणि-
I. (1) वाचस्पतिः मिश्रः
    (ii) भामती
II.  (i) वाचस्पतिः मिश्रः वेदान्तस्य टीकायाः रचनायां व्यस्तः आसीत् ।
      (ii) मिश्रस्य सेवायै तस्य पत्नी भामती आगता ।

संस्कृते पत्रलेखनम्

2. निम्नलिखित में से किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर लिखें : 

(i) संस्कृत के महत्त्व का उल्लेख करते हुए अपनी छोटी बहन को एक पत्र लिखें।
उत्तर-

परीक्षाभवनात्
15.2.2022

प्रिय सुधा
शुभाशीष,
            अत्र कुशलं तत्रास्तु । अस्मिन् पत्रे अहं संस्कृतस्य महत्त्वं वर्णयामि । संस्कृतभाषा प्रायः सर्वासां भाषाणां जननी अस्ति । भारतदेशस्य संस्कृते एव वसति । संस्कृतस्य साहित्यं समृद्धं विद्यते । संस्कृत नाटकस्य माधुर्यं पीत्वा अस्माभिः अलौकिकानन्दः लभ्यते । संस्कृतभाषा भारतीयैरवश्यं पठनीया स्मरणीया च । संस्कृत साहित्य अगाध सागरः वर्तते । कालिदासः, वाणभट्टः, भवभूतिः, माघः, भारवि इत्यादयः महान् कविः संस्कृतभाषायाः स्तंभः । अधुनापि संस्कृतस्य महती गरिमा अस्ति । शेष शुभम् । पत्रोत्तरं देयम् ।

तव अग्रजः
दिनेशः

(ii) अंक-प्रमाणपत्र हेतु प्राचार्य को संस्कृत में एक आवेदन-पत्र लिखें।
उत्तर-सेवायाम्
         प्रधानाचार्यः महोदयः
         राजकीय उच्च विद्यालयः, बाँकीपुर, पटना
महाशयः
          सविनयं निवेदनम् अस्ति यत् अहं भवतः विद्यालयस्य छात्रः अस्मि । पूर्व बोर्ड परीक्षायाम् अहम् उत्तीर्णः अभवम् । अस्याः परीक्षायाः अंक प्रमाण पत्रम् विद्यालये आगतः अस्ति । अतः मह्यम् अंक प्रमाण-पत्रम् दत्वा माम् अनुग्रह्णन्तु ।

तिथि 14 फरवरी, 2022

भवदीयः शिष्यः

अशोकः

संस्कृते अनुच्छेद – लेखनम् (07, अंक)

3. निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर सात वाक्यों में एक अनुच्छेद लिखें:
(क) बिहार राज्यम्
(ख) आदर्शग्राम:
(ग) हिमालयः
(घ) सरस्वती पूजा
(ङ) वैश्विक-महामारी कोराना
(क) बिहार राज्यम्

अस्माकं राज्यः बिहारः । अस्य उत्तरस्यां दिशि नगाधिराजः हिमालयः मुकुटमणिरव विराजते । मध्ये गंगानदी अस्ति । सभ्यतायाः संस्कृते च क्षेत्रे अयं राज्य: अतीव पुरातनः लोकविश्रुतः च वर्तते। महात्मा बुद्ध, महावीर जैन प्रभृतयः जन्मभूमिः बिहार एव । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ख) आदर्श ग्रामः

मिथिलाप्रमण्डले अस्माकं आदर्श: ग्रामः विराजते । अस्माकं ग्रामे विविधजातिषु उत्पन्नः जनाः निवसन्ति । तेषु बन्धुत्वम् उत्तरोत्तरम् वर्द्धते । अस्माकं ग्रामे उच्चविद्यालयः पुस्तकालयश्च स्तः । अस्माकं ग्रामे राष्ट्रियउच्चपथः पार्श्वे अस्ति । ग्रामं निकषा कमलानदी वहति । अस्माकं ग्रामः स्वर्गादपि गरीयान् वर्तते । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ग) हिमालयः

हिमालयः प्राचीनकालात् प्रहरी इव भारतं रक्षति । अयं पृथिव्यां मानदण्ड: इव स्थितः वर्तते । अत्र देवानां निवासः अस्ति, अतः अयं देवतात्मा इति कथ्यते । गङ्गा-यमुना-सिन्धु-सरस्वती ब्रह्मपुत्रादयः नद्यः हिमालयात् एव प्रभवन्ति, भारतभूमिं च शस्यश्यामलां कुर्वन्ति । हिमालये अनेकानि तीर्थानि सन्ति । अयं भारतीयानां कृते वरदानमेव अस्ति । तपस्विनः, साधकाः, गृहस्थाः, पर्यटकाः सर्वे हिमालये शान्तिम् आप्नुवन्ति । अयं भारतमातुः शिरसि मुकुटः इव शोभते । अयं ‘नगाधिराजः’ इति सम्मान्यते । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(घ) सरस्वती पूजा

माघमासं सरस्वतीपूजनं भवति । सरस्वतीपूजनं वसन्तपञ्चम्यां तिथौ भवति । छात्राः शिक्षकाश्च सरस्वती पूजयन्ति । सरस्वत्याः मृण्मूर्ती प्राणप्रतिष्ठा क्रियते । ततः परम् आवाहनं कृत्वा पञ्चोपचारैः वा जनाः सरस्वती पूजयन्ति प्रसादवितरणञ्च कुर्वन्ति । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ङ) वैश्विक-महामारी कोराना

महामारी कोरोना स्वविनाश लीलया विश्वं ग्रसितुं तत्परो अस्ति । सर्वे जनाः हाहाकारं कुर्वन्ति । दशलक्ष्योऽपि जनाः अस्याः ग्रासः अभवन् । विश्वे ‘लॉकडाउन’ आसीत् । भारतवर्षे अस्यां प्रभावः नाधिकम् । भारतीय आयुर्वैज्ञानिकाः अस्यां दिशायां अद्भुतः सफलताः प्राप्ताः । अद्य भारते उत्पादितऔषधयः अति प्रभावकारी अस्ति । अस्मिन् विपत्काले भारतः विश्वस्य सर्वविधि साहाय्यं दत्वा ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ मन्त्रस्य आदर्शम् स्थापितः । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

संस्कृते अनुवादम् (06 अंक)

4. अधोलिखित में से किन्हीं छः वाक्यों का अनुवाद संस्कृत में करें:
.(क) तुम घर जाओ।
(ख) प्रजा राजा को नमस्कार करती है।
(ग) इस समय उसके भग्नावशेष मात्र हैं।
(घ) मैं कल उसे देखने आऊँगा ।
(ङ) मुझको खण्डहर देखना अच्छा लगता है ।
(च) खण्डहर भी शिक्षा देते हैं ।
(छ) क्या तुम मेरे साथ चलोगे ?

(ज) भारत ऋषि महर्षियों का देश है ।
(झ) प्राचीन काल में इसे विश्वगुरु कहा जाता था ।
(ञ) नालन्दा विश्वविद्यालय यहीं था ।
(ट) उसमें विभिन्न देशों के लोग पढ़ने के लिए आते थे ।
(ठ) इसकी गुरु शिष्य परम्परा अति प्रशंसनीय थी । 

उत्तर- (क) त्वम् गृहम् गच्छ ।

(ख) प्रजाः राज्ञे नमस्करोति ।

(ग) सम्प्रति तस्य भग्नावेषः मात्र अस्ति ।

(घ) अहम् श्वःतम् द्रष्टुम् गमिष्यामि ।

(ङ) मह्यम् भग्नावशेषः दर्शनं रोचते ।

(च) भग्नावशेषः अति शिक्षां ददाति ।

(छ) किं त्वं मया सह चिलष्यसि ।

(ज) भारतम् ऋषिः महर्षिनां देशः वर्तते ।

(झ) पुरा इदं विश्वगुरुः कथ्यते स्मः ।

(ञ) नालन्दा विश्वविद्यालयः अत्रैव आसीत् ।

(ट) तत्रैव नानादेशभ्यः जनाः पठितुम आगच्छन्ति स्म ।

(ठ) अस्य गुरु-शिष्यः परम्परा अति प्रशंसनीयाः आसीत्

लघु उत्तरीय प्रश्न (16 अंक)

5. निम्नलिखित में से किन्हीं आठ प्रश्नों के उत्तर दें: 

(क) श्रीराम के प्रकृति सौंदर्य बोध पर अपने विचार लिखें।
उत्तर- वनवास काल में जब राम सीता और लक्ष्मण के साथ चित्रकूट जाते हैं तब मंदाकिनी की प्राकृतिक सुषमा से प्रभावित हो जाते हैं । वे सीता से कहते हैं कि यह नदी प्राकृतिक उपादानों से संवलित चित्त को आकर्षित कर रही है। रंग-बिरंगी छटा वाली यह, हंसों द्वारा सुशोभित है । ऋषिगण इसके निर्मल जल में स्नान कर रहे हैं । ऊँची कछारों वाली यह नदी अत्यन्त रमणीय लगती है। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ख) धन और दवा किसे देना उचित है ?
उत्तर-धन और दवा योग्य व्यक्ति को देना चाहिए । धनवान् को धन देना और निरोग को दवा देना किस काम का अर्थात् इनकी कोई उपयोगिता नहीं है। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ग) दानवीर कर्ण के चरित्र पर प्रकाश डालें।
उत्तर-दानवीर कर्ण एक साहसी तथा कृतज्ञ आदमी था । वह सत्यवादी और मित्र का विश्वासपात्र था। दुर्योधन द्वारा किये गए उपकार को वह कभी नहीं भूला । उसका कवच-कुण्डल अभेद्य था  फिर भी उसने इंद्र को दान स्वरूप दे दिया । वह दानवीर था । कुरूक्षेत्र में वीरगति को पाकर वह भारतीय इतिहास में अमर हो गया । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(घ) मनुष्य के जीवन में संस्कारों की क्या उपयोगिता है ?
उत्तर-भारतीय जीवन में प्राचीन काल से ही संस्कार ने अपने महत्त्व को संजोये रखा है। यहाँ ऋषियों की कल्पना थी कि जीवन के सभी मुख्य अवसरों पर वेदमंत्रों का पाठ, वरिष्ठों का आशीर्वाद, हवन एवं परिवार के सदस्यों का सम्मेलन होना चाहिए । संस्कार दोषों का परिमार्जन करता है भारतीय जीवन दर्शन का महत्त्वपूर्ण स्रोत स्वरूप संस्कार है । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ङ) पंडित किसे कहा गया है ?
उत्तर-जिसके कर्म को सर्दी-गर्मी, भय-आनंद, उन्नति-अवनति बाधा नहीं डालते हैं, उसे ही पंडित कहते हैं । इतना ही नहीं, सभी जीवों के रहस्य को जाननेवाला, सभी कर्मों के कौशल को जाननेवाला तथा मनुष्यों के उन्नति के उपाय जाननेवाला भी पंडित कहलाता है । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(च) कर्मवीर कौन था एवं उसके जीवन से हमें क्या शिक्षा मिलती है ?
उत्तर-कर्मवीर शब्द से ही आभास होने लगता है कि निश्चय ही कोई ऐसा कर्मवीर है जो अपनी निष्ठा, उद्यम, सेवाभाव आदि के द्वारा उत्तम पद को प्राप्त किये हुए है । प्रस्तुत पाठ में एक ऐसे ही कर्मवीर की चर्चा है जो अभावग्रस्त जीवन-यापन करते हुए भी स्नेहिल शिक्षक का सान्निध्य पाकर विविध बाधाओं से लड़ता हुआ  Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

        एक दिन शीर्ष पद को प्राप्त कर लेता है। मनुष्य की निष्ठा, सच्चरित्रता आदि गुण उसे निश्चय ही सफलता की सीढ़ियों पर अग्रसारित करते हैं । अतः हमें भी निष्ठा आदि को आधार बनाकर सत्कर्म पर बने रहना चाहिए। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(छ) समाज के उन्नयन में स्वामी दयानंद के योगदानों पर प्रकाश डालें।
उत्तर-आधुनिक भारत के समाज और शिक्षा के महान उद्धारक स्वामी दयानंद हैं। उन्होंने भारतीय समाज में व्याप्त रूढ़िवादिता को दूर कर नये समाज की स्थापना की है । जातिवाद, अस्पृश्यता, धर्मकार्यों में आडम्बर आदि अनेक विषमताएँ थीं जिनसे समाज ग्रसित था । कर्मकांडी परिवार में जन्म लेने वाले स्वामी दयानंद को शिवरात्रि पर्व की रात्रि में अपने ज्ञान का उद्बोधन हुआ । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

            पत्नी के निधन के बाद इनमें वैराग्य भाव उत्पन्न हो गया। विरजानन्द का सान्निध्य पाकर वैदिक धर्मप्रचार एवं सत्य के प्रसार में अपने जीवन को अर्पित कर दिया। भारतवर्ष में इन्होंने राष्ट्रीयता को लक्ष्य बनाकर भारतवासियों के लिए पथप्रदर्शक का काम किया । दूषित प्रथा को खत्म कर शुद्ध तत्त्वज्ञान का प्रचार-प्रसार किया । वैदिक धर्म एवं सत्यार्थ प्रकाश नामक ग्रंथ की रचना कर भारतवासियों को एक नई शिक्षा नीति की ओर अग्रसरित किया । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ज) भारतीय दर्शनशास्त्र एवं उनके प्रवर्तकों की चर्चा करें ।
उत्तर-सांख्यदर्शन के प्रवर्तक कपिल हैं। योगदर्शन के पतञ्जलि । गौतम न्यायदर्शन एवं कणाद ने वैशेषिक दर्शन का निर्माण किया है।  जैमिनी के द्वारा न्यायदर्शन एवं बादरायण के द्वारा वेदान्त-दर्शन का निर्माण किया गया है। इन सबके सौ से अधिक व्याख्याकार एवं स्वतंत्र ग्रन्थों के निर्माण करने वाले हैं। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(झ) महाशिवरात्रि पर्व स्वामी दयानन्द के जीवन का उद्बोधक कैसे बना?
उत्तर-स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म एक ब्राह्मण कुल में हुआ था। पिताजी स्वयं संस्कृत के उत्कृष्ट विद्वान थे । परिवार में कर्मकाण्ड के प्रति आस्था थी । एक दिन शिवरात्रि के शुभ अवसर पर रात्रि जागरण का महोत्सव हुआ । शिव की मूर्ति पर इन्होंने एक चूहे को चहलकदमी करते हुए देखा ।n इनके मन में तरह-तरह के प्रश्न उठने लगे । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

         उसी समय इनके मन में मूर्ति पूजा के प्रति अनास्था उत्पन्न हो गई । कुछ दिनों के बाद उनकी प्रिय पत्नी का निधन हो गया । इन घटनाओं ने ही उनकी जीवन दिशा को बदल दिया । उनमें वैराग्य भाव उत्पन्न हो गया । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ञ) स्वामी दयानन्द ने अपने सिद्धांतों के कार्यान्वयन हेतु क्या किया?
उत्तर-स्वामी दयानंद एक महान समाज सुधारक संत थे । मध्यकाल में भारत में छुआछूत, अशिक्षा, जातिभेद, धर्म में आडम्बर आदि अनेक कुप्रथाएँ फैली हुई थीं। विधवाओं को काफी कष्ट दिया जाता था । स्वामी दयानंद ने इन सभी कुरीतियों को दूर करने के लिए आम लोगों के बीच जाकर इन कुरीतियों के खिलाफ जागरण पैदा किया । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

        उन्होंने अपने सिद्धान्तों का संकलन ‘सत्यार्थप्रकाश’ नामक ग्रंथ में किया । शिक्षा-पद्धति के दोषों को दूर करने में उनका बहुत बड़ा योगदान रहा । इन सभी कार्यों को करने के लिए उन्होंने ‘आर्यसमाज’ नामक संस्था की स्थापना की। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ट) नदी और विद्वान् में क्या समानता है ?
उत्तर-जिस प्रकार बहती हुई नदियाँ नाम और रूप को छोड़कर समुद्र में विलीन हो जाती हैं वैसे ही विद्वान नाम और रूप से मुक्त होकर परात्पर दिव्य पुरुष को प्राप्त हो जाता है । यही नदी और विद्वान में समानता है। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ठ) राष्ट्रसंघ की स्थापना का उद्देश्य स्पष्ट करें ।
उत्तर-देशों के बीच आपसी विवादों को सुलझाने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्रसंघ की स्थापना हुई । यह समय-समय पर आशंकित युद्ध को रोकता है। Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ड) विजयांका को ‘सर्वशुक्ला सरस्वती’ क्यों कहा गया है ?
उत्तर-सर्वशुक्ला सरस्वती, विजयाङ्का को कहा गया है । लौकिक संस्कृत में विजयाङ्का की भूमिका सराहनीय है । उसके पदों की सौष्ठवता देखने में बनती है । एक असाधारण लेखिका की पराकाष्ठा से प्रभावित होकर ही दण्डी ने उसे सर्वशुक्ला सरस्वती कहा है । विजयात्रा श्याम वर्ण की थी किन्तु उसकी कृतियाँ ज्योतिर्मय थीं । नीलकमल की पंखुड़ियों की तरह विजयाङ्का अपनी रचना में अद्भुत लेखनकला की आभा बिखेरती है । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ढ) भारतीय लोगों की सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण विशेषता क्या है ?
उत्तर भारत में जन्म लेकर लोग धन्य होते हैं और हरि की सेवा करते हैं । उन्हें स्वर्ग और मोक्ष प्राप्त होता है भारतीय धर्म और जाति के भेदभावों को न मानते हुए एकता के भाव से रहते हैं । सभी भारतीयों की देशभक्ति आकर्षक है और दूसरों के लिए आदर्शरूपी है । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(ण) विश्वशांति का सूर्योदय कब होता है ?
उत्तर-जब एक देश दूसरे देश को आपदा के समय सहायता राशि एवं आवश्यक चीजें भेजते हैं तब विश्वशान्ति का सूर्योदय दिखलाई देता है । Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

(त) पाटलिपुत्र के वैभव पर प्रकाश डालें । 
उत्तर-बिहार राज्य की राजधानी पटना का वर्णन भारतीय मनीषियों ने ही नहीं विदेशी यात्री जैसे-मेगास्थनीज, फाह्यान आदि ने भी किया है । इस नगर का इतिहास दो हजार वर्ष के आस-पास गिना जाता है।

        यहाँ के धार्मिक क्षेत्र, उद्योग क्षेत्र और राजनैतिक क्षेत्र विशेष रूप से ध्यानाकर्षक हैं। पाणिनी, पतञ्जली, वररुचि, पिंगल आदि ने भी पाटलिपुत्र को विशेष स्थान के रूप में देखा है । गंगा के तट पर बसा हुआ पाटलिपुत्र एक महानगर है 

Bihar Board Matric Sanskrit Model Paper 2023

Leave A Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page